आध्यात्म

  • Deepawali 2019: जानिए लक्ष्मी-गणेश पूजन के लिए क्या-क्या है आवश्यक सामग्री

    खास बातें दीपावली का त्योहार धनतेरस से शुुरू होकर भाई-दूज तक रहता है और सभी त्योहारों का अपना-अपना महत्त्व होता है। दीपावली का त्योहार हिन्दुओं के लिए विशेष है। इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। दीपावली शब्द की उत्पत्ति दो शब्दों से मिलकर हुई है दीप+आवली। दीप का मतलब दीये और आवली का मतलब श्रृंखला से होता है। दीपावली का त्योहार धनतेरस से शुुरू होकर भाई-दूज तक रहता है और सभी त्योहारों का अपना-अपना महत्त्व होता है।दीपावली की तैयारिय...

  • Dhanteras 2019: आप पर होगी भगवान धन्वंतरि की कृपा, इस शुभ मुहूर्त में करें खरीदारी

    पांच दिवसीय दीपोत्सव महापर्व धनतेरस के साथ आज से शुरू हो रहा है। दिवाली से दो दिन पूर्व कार्तिक मास की त्रयोदशी को धनतेरस का पर्व मनाया जाता है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार धनतेरस पर नई वस्तु खरीदने का विशेष महत्व है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार धनतेरस पर भगवान धनवंतरि, कुबेर व यमराज की पूजा होती है। इस दिन आटे का दीपक जलाकर देवताओं की आराधना करने से कृपा बरसती है। इसके बाद नरक चौदस, छोटी दीपावली, महालक्ष्मी पूजन, गोवर्धन पूजन और भाईदूज के साथ महापर्व का समापन होगा। सोर...

  • Dhanteras 2019: इस धनतेरस पर राशि अनुसार करें खरीदारी, आपके लिए रहेगा शुभ

    दिवाली महापर्व की शुरुआत धनतेरस से होती है। धनतेरस का त्योहार इस बार 25 अक्टूबर को मनाया जाएगा। हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि पर यह पर्व मनाया जाता है। इस दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा होती है। ऐसी मान्यता है कि इसी दिन भगवान धन्वंतरि का जन्म हुआ था। इस दिन कुछ न कुछ खरीदने की परंपरा है जैसे सोने-चांदी के आभूषण, बर्तन, वाहन और झाड़ू। धनतेरस पर खरीदारी करने से धन में बढ़ोतरी और सुख समृद्धि आती है। 13 गुना होती...

  • Rama Ekadashi 2019: इस दिन से शुरू होगी मां लक्ष्मी की पूजा, जानिए पूजा विधि और महत्व

    Rama Ekadashi 2019: हिंदू धर्म में तिथियों को पांच भागों में बांटा गया है। उसमें एकादशी को नंदा अर्थात् आनंद देने वाली तिथि होने का गौरव प्राप्त है। एकादशी तिथि को सभी तिथियों में श्रेष्ठ माना जाता है। इसे हरिवासर भी कहते हैं। इस तिथि को नारायण का दिवस भी कहा जाता है। रमा एकादशी का महत्व कार्तिक मास में दीपावली से पहले पड़ने वाली एकादशी को रमा एकादशी कहते हैं। जो कि भगवान विष्णु की पत्नी लक्ष्मी जी के नाम पर है। जिन्हे...

  • जानिए क्यों होती है धनवंतरी की पूजा? धनतेरस पर बर्तन-चांदी खरीदना क्यों होता है शुभ

    धनतेरस पर धनवंतरि देव की पूजा होती है। इनको आयुर्वेद का आचार्य भी कहा जाता है। ये देवताओं के वैद्य हैं। देव धनवंतरि को लक्ष्मी का भाई भी माना जाता है। इन्हीं के अवतरित होने से जुड़ी है धनतेरस के दिन बर्तन खरीदने की परंपरा। जब समुद्र मंथन हो रहा था तब सागर की अतल गहराइयों से चौदह रत्न निकले थे। धनवंतरि इन्हीं रत्नों मे से एक हैं। जब देवता और दानव मंदार पर्वत को मथनी बनाकर वासुकी नाग की मदद से समुद्र का मंथन कर रहे थे, तब 13 रत्नों के बाद कार्तिक कृष्ण पक्ष की ...

  • अहोई अष्‍टमी का व्रत रखकर माता पार्वती को करें प्रसन्न, आपकी हर मुश्किल होगी दूर

    अहोई अष्टमी व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रखा जाता है. इस दिन अहोई माता (पार्वती) की पूजा की जाती है. इस दिन किए उपाय आपकी हर मुश्किल दूर कर सकते हैं. इस दिन महिलाएं व्रत रखकर अपने संतान की रक्षा और दीर्घायु के लिए प्रार्थना करती हैं. जिन लोगों को संतान नहीं हो पा रही हो उनके लिए ये व्रत विशेष है. इस दिन विशेष उपाय करने से संतान की उन्नति और कल्याण भी होता है. इस बार अहोई अष्टमी का व्रत दो दिन रखा जा रहा है. कुछ लोग 20 अक्टूबर यानी रविवार तो कुछ लोग...

  • Dhanteras 2019: 100 साल बाद इस महासंयोग में पड़ रहा धनतेरस, जानिए पूरी कथा

    Dhanteras भगवान विष्णु के अंशावतार एवं देवताओं के वैद्य भगवान धन्वन्तरि का प्राकट्यपर्व कार्तिक कृष्णपक्ष त्रयोदशी को 25 अक्टूबर को मनाया जाएगा। ये पर्व प्रदोषव्यापिनी तिथि में मनाने का विधान है। इस दिन परिवार में आरोग्यता के लिए घर के मुख्य दरवाजे पर यमदेव का स्मरण करके दक्षिण मुख अन्न आदि रखकर उस पर दीपक स्थापित करना चाहिए। इस वर्ष धनतेरस का मुख्य समय दिल्ली के समयानुसार शायं 07 बजकर 06 मिनट से 08 बजकर 16 मिनट के मध्य मनाना अतिशुभ रहेगा। गृहस्थों को इसी अवधि के मध...

  • दीपावली पर लक्ष्मी कृपा पाने के लिए अवश्य करें यह उपाय, घर पर आएगी सुख- समृद्धि

    दीपावली रोशनी और खुशियों का त्यौहार है। मां लक्ष्मी समृद्धि की देवी हैं। दीपावली पर किये गये कुछ उपाय आपके घर में सुख और समृद्धि आते हैं। दीपावली आते ही हम रंग रोंगन सफाई आदि करना शुरू कर देते हैं। हर व्यक्ति का यही प्रायोजन होता है लक्ष्मी मां उनके घर आएं और उन्हें आशीर्वाद दें। अगर घर साफ सुथरा है तो उससे सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है। कबाड़ नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करता है। घर की सफाई करते वक्त हमें घर में कहीं भी कबाड़ नहीं रखना चाहिये। किसी भी प्रकार के पुराने...

  • Diwali 2019: जानिए दिवाली पर क्यों की जाती है मां लक्ष्मी की आराधना

    कार्तिक माह के आगमन के साथ ही दीपों के त्योहार दिवाली की तैयारियां शुरू हो जाती है। मान्यता है कि भगवान राम इसी दिन लंका पर विजय प्राप्त कर और अपने 14 वर्ष का वनवास पूरा करके वापस अयोध्या लौटे थे। उनके आने की खुशी में पूरे राज्य को दीपों से जगमग किया गया। तभी से यह त्योहार मनाया जाने लगा। लेकिन इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा भी की जाती है। कहा जाता है कि धन की देवी मां लक्ष्मी इस दिन घर में प्रवेश करती हैं। आइए जानते हैं कि दिवाली पर मां लक्ष्मी की आराधना क्यों की जाती ...

  • जानें क्या है पापांकुशा एकादशी का महत्व ,पूजा का शुभ मुहूर्त

    व्रतों में प्रमुख व्रत नवरात्रि, पूर्णिमा, अमावस्या और एकादशी के हैं। उसमें भी सबसे बड़ा व्रत एकादशी का माना जाता है। चन्द्रमा की स्थिति के कारण व्यक्ति की मानसिक और शारीरिक स्थिति खराब और अच्छी होती है। ऐसी दशा में एकादशी व्रत से चन्द्रमा के हर खराब प्रभाव को रोका जा सकता है। यहां तक कि ग्रहों के असर को भी काफी हद तक कम किया जा सकता है, क्योंकि एकादशी व्रत का सीधा प्रभाव मन और शरीर, दोनों पर पड़ता है। इसके अलावा एकादशी के व्रत से अशुभ संस्कारों को भी नष्ट किया जा सकत...